Day Trading की पहचान 

Intraday Trading in BSE NSE

Day Trading की पहचान Introduction To Day Trading

डे ट्रेडिंग और डे ट्रेडर ( Day Trading & Day Trader )

Day Trading  शेअर्स ( सिक्योरिटीज ) , फ्युचर्स ऑप्सन और करन्सी में दिन के दरम्यान खरीदी कीमत में होने वाले उतार – चढॉव में से फायदा कमाने के हेतू से की गई या बिक्री को डे ट्रेडिंग कहते है । डे ट्रेडिंग यह ट्रेडिंग की अन्य शैलीओं से अलग है । इसमें फायदा होता हो या घाटा , एक ही दिन में ट्रेडिंग को पूरा करना पडता है । इस में ओव्हर नाईट निवेश नहीं किया जाता।

trading in share market

basically, Day trading  करने वाले व्यक्ति को डे ट्रेडर के नाम से जाना जाता है। उन्हे momentum trader  कहके भी पहचाना जाता है। डे ट्रेडर बाजार की गति के साथ ट्रेडिंग करने वाला खिलाडी है । वह शीघ्र ही अपना फायदा कर लेते है |और उस से भी शीघ्रता से अपना नुकसान घटाते है|  रोक देते है । वह जिस दिन शेअर्स की खरीदी करते है उसी दिन जल्दी से बेच भी देते है।

कई बार तो वह शेअर्स की खरीदी करने के बाद दो तीन घंटो या कुछ ही मिनटों में उनकी बिक्री करके मुनाफा कमा लेते है । इसका अर्थ यह होता है कि डे ट्रेडर अपनी पोजिशन दुसरे दिन के लिए कॅरीफॉरवर्ड नहीं करते । ट्रेडिंग सेशन के किसी भी समय में डे ट्रेडर खरीदी या बिक्री कर सकते है परंतु उस दिन के अंत में सभी ट्रेडिंग की पोजिशन को एक समान ( बंद ) करना पडता है| 

पोजिशन ट्रेडिंग और पोजिशनल ट्रेडर ( Position Trading & Positional Trader ) :

firstly ,पोजिशन ट्रेडिंग डे ट्रेडिंग की तुलना में पूरी तरह से भिन्न है। position trading  का मूख्य हेतू बाजार के प्राथमिक ट्रेन्ड के आधार से फायदा कमाने का होता है और डे ट्रेडिंग का हेतू बाजार में दिन के दरम्यान कीमत में होनेवाले उतार – चढाव में से फायदा कमाने का होता है।

secondly, Long term का निवेश ( लाँग टर्म इन्वेस्टमेन्ट ) शेअर्स , कमोडिटी और करन्सी में किया जाता है। दीर्घ समय केलिए निवेश करके उसमें से मुनाफा कमाने के हेतू से दीर्घकालीन ट्रेडिंग किया जाता है। इस प्रकार की ट्रेडिंग करने से पूर्व संस्थाओं के फंडामेन्टल्स का विश्लेषण किया जाता है । इस में टेक्निकल अॅनालिसीस का विश्लेषण करने की कोई जरूरत नहीं होती ।

thirdly, दीर्घ समय के निवेशक उनकी पोजिशन कुछ वर्षों तक पकड कर रख सकते है। इस तरह से लाँग टर्म ट्रेडर डे ट्रेडर की तुलना में बिलकुल डे ट्रेडिंग भिन्न प्रकार से कार्य करते है ।

basically, Position trader – एक दिन से अधिक समय केलिए अपना व्यवहार ( ट्रेड ) पकड कर रखते है । उनका निवेश कम समय ( शॉर्ट टर्म ) के लिए होता है । याने की हफ्ते या कुछ महिनों के समय केलिए वह खुद की पोजिशन खडी रख सकते है । हर दिन होने वाले किमत के उतार – चढॉव से उनका कोई भी संबंध नहीं होता है ।

दीर्घ समय का निवेश और दीर्घ कालीन निवेशक ( Long Term Investing & Long Term Investor ) :

Basically, long term का निवेश ( लाँग टर्म इन्वेस्टमेन्ट ) शेअर्स , कमोडिटी और करन्सी में किया जाता है। दीर्घ समय के लिए निवेश करके उसमें से मुनाफा कमाने के हेतू ,दीर्घकालीन ट्रेडिंग किया जाता है ।

इस प्रकार की ट्रेडिंग करने से पूर्व संस्थाओं के फंडामेन्टल्स का विश्लेषण किया जाता है। इस में, टेक्निकल अॅनालिसीस का विश्लेषण करने की कोई जरूरत नहीं होती ।

Long term के निवेशक उनकी पोजिशन कुछ वर्षों तक पकड कर रख सकते है। इस तरह से लाँग टर्म ट्रेडर डे ट्रेडर की तुलना में बिलकुल डे ट्रेडिंग भिन्न प्रकार से कार्य करते है ।

nse-bse-upcoming-dividends-dividends-declared-dividends-details-2021

pranjal kamra stock market for beginners

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *